Hindi Sandhi (संधि)


Meaning of Sandhi is 'mail'. The change from two adjacent characters is called Sandhi or the joining of vowels or consonents to form a new word.
(संधि शब्द का अर्थ है ‘मेल’। दो निकटवर्ती वर्णों के आपसी मेल से जो परिवर्तन होता है उसे संधि कहलाता है।)

For Example:

सम् + तोष = संतोष
Explanation: म् + ओ (sounds come which forms) - न

देव + इंद्र = देवेंद्र
Explanation: In व (अ sounds comes) so combine with इ which forms ए. so in this example ए matra used.

भानु + उदय = भानूदय।
Explanation: ु + उ Forms ू this uu we use in ths example.

Sandhi is divided into three types: (संधि तीन प्रकार में विभाजित है):

1) स्वर संधि (Swar Sandhi).
2) व्यंजन संधि (Vayanjan Sandhi)
3) विसर्ग संधि (Visarga Sandhi)



1) स्वर संधि (Swar Sandhi)

Two vowels join together to form a new word is called Swarsandhi.
(दो स्वरों के आस -पास आने पर उनमें जो परिवर्तन होता है , उसे स्वर संधि कहते है।
जैसे – विद्या + आलय = विद्यालय।

Swar Sandhi is divided into five parts: (स्वर संधि के पांच भेद हैं)

1) दीर्घ स्वर संधि (Dirgh swar sandhi):

Two similar or simple vowels coming together are replaced their longer form.
अ इ उ के बाद दीर्घ अ इ उ आ जाए तो दोनो मिलकर दीर्घ संधि आ ई ऊ हो जाते है।

Example: अ + आ = आ हिम + आलय = हिमालय (Himalay)

अ + आ = आ विधा + अर्थी = विधार्थी (Vidhyarthi - Student)

(इ और ई की संधि इ + इ = ई –> रवि + इंद्र = रवींद्र ;मुनि + इंद्र = मुनींद्र

इ + ई = ई - गिरि + ईश = गिरीश (Girish) ; मुनि + ईश = मुनीश (Munish)

ई + इ = ई - मही + इंद्र = महींद्र (Mahindra) ; नारी + इंदु = नारींदु (Narindu)

ई + ई = ई - नदी + ईश = नदीश (Nadish) ; मही + ईश = महीश (Mahish).

उ और ऊ की संधि उ + उ = ऊ - भानु + उदय = भानूदय (Bhanuuday); विधु + उदय = विधूदय (Vdhuday)

उ + ऊ = ऊ- लघु + ऊर्मि = लघूर्मि (Lagurmi); सिधु + ऊर्मि = सिंधूर्मि (Sindhurmi)

ऊ + उ = ऊ- वधू + उत्सव = वधूत्सव (Vadhuutsav) ; वधू + उल्लेख = वधूल्लेख (Vadhuulekh)

ऊ + ऊ = ऊ - भू + ऊर्ध्व = भूर्ध्व (Bhudharv) ; वधू + ऊर्जा = वधूर्जा (Vadhurja)

2) गुण स्वर संधि (Gunswar Sandhi):

अ, आ followed by a dissimilar simple vowel simple vowel is replaced by its corresponding guna letter:
इस संधि मे अ, आ के आगे इ , ई हो तो ए उ, ऊ हो तो औ और अगर ऋ हो तो अर् हो जाता है उसे गुण संधि कहते है।

Example:
अ + इ = ए- नर + इंद्र = नरेंद्र (Narendra);

अ + ई = ए- नर + ईश = नरेश (Naresh);

आ + इ = ए- महा + इंद्र = महेंद्र (Mahendra);

आ + ई = ए महा + ईश = महेश (Mahesh);

अ + उ = ओ ज्ञान + उपदेश = ज्ञानोपदेश (Gyanopdesh) ;

आ + उ = ओ महा + उत्सव = महोत्सव (Mahotsav) ;

अ + ऊ = ओ जल + ऊर्मि = जलोर्मि (Jalormi);

आ + ऊ = ओ महा + ऊर्मि = महोर्मि(Mahormi);

अ + ऋ = अर् देव + ऋषि = देवर्षि (Devrishi) ;

आ + ऋ = अर् महा + ऋषि = महर्षि (Maharshi) ;

3) यण स्वर संधि (Yan Swar sandhi):

In this sandhi, if there is any other different vowel after इ , ई , उ , ऊ  or ऋ then it changes into य , व् or र
( इस संधि मे इ , ई , उ , ऊ ,और ऋ के बाद कोई अलग स्वर आए तो इनका परिवर्तन क्रमश: य , व् और र में हो जाता है ! )

Example:

इ का य = इति +आदि = इत्यादि (Ityadi)

ई का य = देवी +आवाहन = देव्यावाहन (Devaawahan)

उ का व = सु +आगत = स्वागत (Swagat)

ऊ का व = वधू +आगमन = वध्वागमन (Vadhvagman)

ऋ का र = पितृ +आदेश = पित्रादेश (Pitradesh)

4) वृद्धि स्वर संधि (Vridi Swar sandhi):

अ, आ followed by a guna or vridhi letter is replaced by its corresponding vridhi letter:

अ, आ + ए ऐ -> ऐ
अ, आ + ओ औ -> औ

(इस संधि मे अ, आ ए ऐ से मेल होने पर ऐ के तथा अ, आ का ओ, औ से मेल होने पर औ हो जाता है। उसे वृद्धि संधि कहते हैं। )

जैसे:
अ +ए =ऐ एक +एक = एकैक

अ +ऐ =ऐ मत +ऐक्य = मतैक्य

अ +औ=औ परम +औषध = परमौषध

आ +औ =औ महा +औषध = महौषध

आ +ओ =औ महा +ओघ = महौघ


5) अयादि स्वर संधि (Aayadi Swar Sandhi):

In this Sandhi, except ए , ऐ or ओ , औ vowels, change in different vowels like अय , आय , अव , आव are called Ayadi swar sandhi.
(इस संधि मे ए , ऐ और ओ , औ के पशचात इन्हें छोड़कर कोई अन्य स्वर हो तो इनका परिवर्तन क्रमश: अय , आय , अव , आव में हो जाता है )

जैसे - Example:

ए का अय ने +अन = नयन (Nayan)

ऐ का आय नै +अक = नायक (Nayak)

ओ का अव पो +अन = पवन (Pawan)

औ का आव पौ +अन = पावन (Pawan)

न का परिवर्तन ण में = श्रो +अन = श्रवण (Shravan)

2) व्यंजन संधि (Vyanjan Sandhi)

A hard consonant followed by a soft consonant or vowel changes to the second type of sandhi
(व्यंजन के साथ स्वर अथवा व्यंजन के मेल से उस व्यंजन में जो रुपान्तरण होता है , उसे व्यंजन संधि कहते हैं)

जैसे - Example

प्रति +छवि = प्रतिच्छवि (Praticbhavi)

दिक् +अन्त = दिगन्त (Digant)

3. दिक् +गज = दिग्गज (Diggaj)

4. अनु +छेद =अनुच्छेद (Anuched)

5. अच +अन्त = अजन्त (Ajant).

3) विसर्ग संधि (Visarga Sandhi)

Visarga Sandhi followed by अ and followed by a sofy consonent or अ, visarga changes to ओ and the अ changes to avagraha is called visarga sandhi.
(विसर्ग के साथ स्वर या व्यंजन का मेल होने पर जो विकार होता है , उसे विसर्ग संधि कहते हैं ! )

जैसे - Examples

मन: +रथ = मनोरथ (Manorath)

यश: +अभिलाषा = यशोभिलाषा (Yashobhilasha)

अध: +गति = अधोगति (Adhogati)

नि: +छल = निश्छल (Nishchal)

दु: +गम = दुर्गम (Durgam)

Related Topic: Hindi Kaarak (कारक)





Latest Release


How to write a Letter to the Principal (प्रधानाचार्य को पत्र कैसे लिखें)

Write a letter to principal for one week leave: एक सप्ताह के ल...

Official Letter Writing in Hindi (हिन्दी मे आधिकारिक पत्र लेखन)

Hindi beginners are required to write some official letter or non-official letter in Hindi...

Identification of Grammatical Gender (व्याकरणिक लिंग की पहचान)

Common Mistakes with Grammatical Gender:When the new learner starts learning Hindi they ge...

Hindi Story Writing (कहानी लेखन)

In Hindi, story writing is called as Kahani Lekhan. Story writing is based on imagination ...

Common Verbs (सामान्य क्रियायें)

On my quest to learn more than 600 most common words in Hindi, there are numbers of words ...